CUETCUET Hindi

CUET Hindi Notes Kal|काल|Hindi Grammar PDF Download

CUET Hindi Notes Kal|काल PDF Download Free

यदि आप CUET की तैयारी कर रहे हैं तो यहां पर आपको मिलेंगे हिंदी के CUET Hindi Notes CUET Hindi Notes Kal|काल से अधिक शब्द शुद्धि जो हर परीक्षा में बार-बार आते हैं|

काल की परिभाषा, भेद और उदाहरण, Kaal Ki Paribhasha

काल

• काल का अर्थ समय होता है।
• व्याकरण में क्रिया के होने वाले समय को काल कहते हैं।
• क्रिया के जिस रूप से उसके होने के समय का बोध हो, उसे काल कहते हैं; जैसे–
1. राम पढ़ता है। 
2. राम पढ़ेगा।
3. राम पढ़ रहा है। 
4. राम ने पाठ पढ़ा।

 • काल के प्रकार–  काल तीन प्रकार के होते हैं–
1. भूतकाल
2. वर्तमान
3. भविष्यत् काल

1. भूतकाल–

• वाक्य में प्रयुक्त क्रिया के जिस रूप से बीते समय (भूत) में क्रिया का होना पाया जाता है अर्थात् क्रिया के व्यापार की समाप्ति बतलाने वाले रूप को भूतकाल कहते हैं।
• कथन के क्षण के पूर्व होने वाले क्रिया व्यापार को भूतकाल कहते हैं।
• भूतकाल के छह उपभेद होते हैं–

1. सामान्य भूतकाल

 कथन के क्षण के पूर्व सामान्य रूप से होने वाले क्रिया व्यापार को सामान्य भूतकाल कहते हैं।
• पहचान– धातु के अंत में या, आ, ई, ए, ईं की मात्रा आएगी; जैसे–
1. वर्षा हुई। 
2. राम ने पत्र लिखा।
3. सीता ने खाना खाया।
4. दादी ने कहानी सुनाई।
5. वह घर गया।
6. बच्चे पढ़कर घर चले गए।

2. आसन्न भूतकाल

 आसन्न का अर्थ ‘निकट’। भूतकाल में क्रिया व्यापार शुरू हुआ और अभी-अभी समाप्त हुआ।
• पहचान– धातु के अंत में आ है, या है, ई है, ए हैं, ईं हैं जुड़े होते हैं; जैसे–
1. वर्षा हुई है। 
2. राम ने पत्र लिखा है।
3. सीता ने पत्र पढ़ा है। 
4. बालक ने दूध पीया है।
5. बच्चे पढ़कर घर चले गए हैं।

3. अपूर्ण भूतकाल

 भूतकाल में काम तो शुरू हुआ लेकिन अभी पूर्ण नहीं हुआ।
• पहचान– धातु के अंत में रहा था, रही थी, रहे थेरही थीं जुड़े रहते हैं; जैसे–
1. वर्षा हो रही थी।
2. राम पत्र लिख रहा था
3. वे घर जा रहे थे।
4. सीता खाना खा रही थी।
5. कृष्ण पुस्तक लिख रहा था।
6. वह दूध पी रहा था।

4. पूर्ण भूतकाल– 

भूतकाल की क्रिया की समाप्ति के समय का स्पष्ट बोध होता है कि क्रिया को समाप्त हुए काफी समय बीत चुका है।
• पहचान– या था, आ था, ई थी, ए थे, ईं थीं से क्रिया का अंत होता है; जैसे–
1. मैंने आम खाया था।      
2. बच्चे पढ़कर घर चले गए थे।
3. वर्षा हुई थी।            
4. राम ने पत्र लिखा था।
5. माताजी ने सब्जियाँ खरीदी थीं।        
6. उसने खाना खाया था।

5. संदिग्ध भूतकाल– 

भूतकाल में जो काम शुरू हुआ, उसमें संदेह हो कि कार्य हुआ या नहीं, वहाँ संदिग्ध भूतकाल होगा।
• पहचान– क्रिया की समाप्ति पर आ होगा, या होगा, ई होगी, ए होंगेईं होंगी आते हैं; जैसे–
1. वर्षा हुई होगी। 
2. राम ने खाना खाया होगा।
3. वह घर गया होगा। 
4. बच्चे पढ़कर घर गए होंगे।

6. हेतुहेतुमद् भूतकाल

भूतकाल में दो क्रिया होगी, एक क्रिया दूसरी क्रिया पर आश्रित होगी।
इस रूप में दो क्रियाओं का होना आवश्यक है तथा क्रिया के साथ ता, ती, ते लगता है।
• पहचान– शर्त रहेगी तथा यदि-तो, ता तो, ती तो, ते तो; जैसे–
1. यदि वर्षा होती तो फसल अच्छी होती।
2. यदि महेन्द्र पढ़ता तो उत्तीर्ण होता है।

• नोट– कभी-कभी ‘यदि’ नहीं भी आता है लेकिन ‘तो’ जरूर आएगा।
1. यदि राम आता तो लक्षण आता।
2. यदि स्वास्थ्य अच्छा रहता तो लिख पाता।
3. यदि मेहनत करता तो उत्तीर्ण होता।
4. यदि तुम समय पर स्टेशन जाते तो गाड़ी मिल जाती।
5. युद्ध होता तो गोलियाँ चलतीं।

2. वर्तमान काल–

• कथन के क्षण के साथ होने वाले क्रिया व्यापार को वर्तमान काल कहते हैं।
• क्रिया के जिस रूप से वर्तमान समय में क्रिया का होना पाया जाए, उसे वर्तमान काल कहते हैं।
• वर्तमान काल के पाँच भेद होते हैं–

1. सामान्य वर्तमान काल

 कथन के क्षण के साथ सामान्य रूप से होने वाले क्रिया व्यापार को सामान्य वर्तमान काल कहते हैं।
• जब क्रिया के व्यापार का सामान्य रूप से वर्तमान समय में होना प्रकट हो, वहाँ सामान्य वर्तमान काल कहलाता है।
• पहचान– ता है, ती है, ते हैं, ते हो, ता हूँ; जैसे–
1. बालक पढ़ता है।
2. लड़कियाँ पढ़ती हैं।
3. मैं कॉलेज जाता हूँ।
4. लड़का पाठ पढ़ता है।
5. मोहन पुस्तक पढ़ता है।
6. लड़के शोर करते हैं।
7. गाँव वाले नहाते हैं।

2. अपूर्ण या तात्कालिक वर्तमान काल

 इससे यह पता चलता है कि क्रिया वर्तमान काल में हो रही है तथा उसकी समाप्ति की अभी कोई सूचना नहीं है, वहाँ अपूर्ण या तात्कालिक वर्तमान काल होता है।
• पहचान– रहा है, रही है, रहे हैं, रहा हूँ, रहे हो; जैसे–
1. बालक पढ़ रहे हैं।
2. लड़कियाँ खाना खा रही हैं।
3. वे घर जा रही हैं। 
4. मैं कॉलेज जा रहा हूँ।
5. तुम मन्दिर जा रहे हो।
6. सीता पुस्तक पढ़ रही है।

3. संदिग्ध वर्तमान काल– 

जिससे क्रिया के होने में संदेह प्रकट हो, पर उसकी वर्तमानता में संदेह न हो। • जब क्रिया के वर्तमान काल में होने पर संदेह होवहाँ संदिग्ध वर्तमान काल होता है।
• पहचान– ता होगा, ती होगी, ते होंगे, ती होंगी, ते होंगे; जैसे–
1. बालक पढ़ता होगा।
2. वे खेलते होंगे।
3. लड़कियाँ पढ़ती होगी।
4. वह कॉलेज जाता होगा।

4. संभाव्य वर्तमान काल– 

क्रिया के जिस रूप द्वारा वर्तमान काल की अपूर्ण क्रिया की संभावना व्यक्त की जाए, वहाँ संभाव्य वर्तमान काल होता है।
• पहचान– ता हो, ती हो, या हो, ई हो; जैसे–
1. शायद, प्रकाश आता हो।
2. सम्भवतया, नौकर आया हो।
3. शायद, माताजी मन्दिर गई हो। 

5. आज्ञार्थ वर्तमान काल– 

क्रिया के जिस रूप के द्वारा वर्तमान समय में अर्थात् वर्तमान काल में आज्ञा देने का बोध हो, वहाँ आज्ञार्थ वर्तमान काल होता है।
• पहचान– ए, ओ (वर्तमान समय में आज्ञा दी जाती है।)
1. बच्चों तुम खेलो। 
2. राम तुम यह पाठ पढ़ो।
3. आप सब पढ़िए।

3. भविष्यत् काल–

• कथन के क्षण के बाद होने वाले क्रिया व्यापार को भविष्यत् काल कहते हैं अर्थात् क्रिया के जिस रूप से कार्य के आने वाले समय में सम्पन्न होने का बोध होता हो, उसे भविष्यत् काल कहते हैं।
• भविष्यत् काल तीन प्रकार का होता है–

1. सामान्य भविष्यत् काल

 कथन के क्षण के बाद होने वाले सामान्य क्रिया व्यापार को सामान्य भविष्यत् काल कहते हैं।
• पहचान– धातु के अंत में एगा, एगी, एँगे, एँगी जुड़े हुए होते हैं; जैसे–
1. वह आएगा।
2. वह आज खाना खाएगा।
3. राधा पत्र लिखेगी।
4. बच्चे पढ़कर घर जाएँगे।
5. माताजी सब्जियाँ खरीदेंगी।

2. संभाव्य भविष्यत् काल– 

कथन के क्षण के बाद कार्य के होने में संदेह या संभावना का बोध हो।
• पहचान– वाक्य का आरम्भ संभवतया, शायद, हो सकता है आदि शब्द से होगा।
1. संभवतया परीक्षा नवंबर में होगी।
2. शायद कल वर्षा होगी।
3. शायद राम कल आएगा।
4. संभवतया परिणाम जनवरी में आएगा।
5. संभवतया कोरोना अक्टूबर में समाप्त हो जाएगा।

3. हेतुहेतुमद् भविष्यत् काल– 

भविष्यत् काल की वह क्रिया, जिसमें एक क्रिया दूसरी क्रिया पर निर्भर रहती है।
• पहचान– शर्त रहेगी तथा यदि-तो, गा तो, गी तो, गे तो इत्यादि; जैसे–
1. यदि वर्षा होगी, तो फसल अच्छी होगी।
2. वह लगातार मेहनत करेगा तो अवश्य सफल हो जाएगा।
3. यदि वह आ जाएगा तो मैं घर जाऊँगा।
4. यदि तुम समय पर स्टेशन जाओगे तो गाड़ी मिल जाएगी।

काल की परिभाषा, भेद और उदाहरण, Kaal Ki Paribhasha – Adda247

काल Tense – सामान्य हिंदी व्याकरण नोट्स
Kal (Tense) (काल) PDF in Hindi – My Gk Notes
काल -हिंदी व्याकरण -(PDF Download
काल – व्याकरण, हिन्दी – Class Notes

teachmint.com
https://www.teachmint.com › tfile › hindi › कलpdf

काल और काल के भेद – Notes | Study Hindi Grammar

काल हिंदी व्याकरण Examples
काल हिंदी व्याकरण worksheet
काल हिंदी व्याकरण pdf Class 7
काल हिंदी व्याकरण PDF
काल हिंदी व्याकरण PDF Class 9
‘समारोह में मैं भी कविता सुनाऊँगा।’ वाक्य का काल बताइए।
काल हिंदी व्याकरण PDF Class 4
काल हिंदी व्याकरण PDF Class 8
हिन्दी व्याकरण | काल
Hindi Vyakaran Kaal PDF ( हिन्दी व्याकरण काल )
Hindi Grammar Kaal PDF

काल हिंदी व्याकरण PDF


काल हिंदी व्याकरण Examples
Shyam ne khaya kis kal ka udaharan hai
Shivam a raha hoga kis kal ka udaharan hai
वर्तमान काल भूतकाल, भविष्य काल
काल परिवर्तन के उदाहरण
काल हिंदी व्याकरण worksheet
काल परिवर्तन कीजिए

Prachi

NCERT-NOTES Class 6 to 12.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button